Blog

बहुत फायदेमंद है अश्‍वगंधा


Ashwgandha

अश्वगंधा सैकड़ों वर्ष से एक हर्बल उपचार के रूप में उपयोग में लाया जाता है। न केवल भारत में, बल्कि नेटिव अमेरिकिन और अफ्रीकन भी सूजन और बुखार का इलाज और संक्रमण के खिलाफ संरक्षण के रूप में इसका उपयोग कर रहे है।

Click to Buy Now

अश्वगंधा भारतीय जिनसेंग (औषधीय पौधा जो दक्षिण एशिया और उत्तर अमेरिका में पाया जाता है) के रूप में जाना जाता है और इसका उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता है जैसे कि एशियन जिनसेंग पारंपरिक चीनी चिकित्सा में प्रयोग किया जाता है। अश्वगंधा चाय पौधो की जड़ों और पत्तियों से बनी होती है और स्वास्थ्य लाभ के लिए भी उपयोग में लाई जाती है। यह चाय आसानी से एक पोने घंटे के लिए पानी में सूखी जड़ी बूटी को उबालने और फिर इसको छानने के द्वारा घर पर आसानी से बनाई जा सकती है। पौधे की जड़ बड़े पैमाने पर वजन में कम से कम तीन ग्राम होनी चाहिए, और यह मात्रा तीन से चार कप चाय बनाने के लिए चाहिए।

अश्वगंधा टमाटर के रूप में एक ही संयंत्र परिवार से एक झाड़ी (पौधा) है। इसमें फ्लेवोनॉइड और एंटीऑक्सीडेंट की तरह कई लाभकारी तत्व है। अनुसंधान से पता चलता है कि यह मस्तिष्क में न्यूरोलॉजिकल ट्रांसमिशन में सुधार लाने में मदद करता है। स्कूल जाने वाले बच्चों नें याददाश्त में सुधार आने जैसे लाभो के बारे में कहा है और हर सुबह नियमित रूप से अश्वगंधा चाय के सेवन द्वारा ज्ञान को स्वीकार किया है। आइए जानें अश्‍वगंधा आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए कैसे फायदेमंद है।

अश्वगंधा के एंटीऑक्सीडेंट गुण जाहिरा तौर पर एलडीएल ऑक्सीकरण में कमी लाते है, जिससे हृदय रोग के विकास के जोखिम में कमी आती है यदि नियमित रूप से यह लिया जाता है। अश्वगंधा के एक अन्य लाभ मधुमेह रोगियों के लिए मोतियाबिंद को रोकना है। मोतियाबिंद दुनिया में अंधापन का एक प्रमुख कारण हैं, और भी मधुमेह रोगियों के लिए एक विकलांगता के प्रमुख स्रोत हैं। जिनसेंग और जिनसेंग की तरह अश्वगंधा जड़ी बूटी ओस्सिडेटिव प्रक्रियाओं को रोकती है जोकि मोतियाबिंद को विकसित करने का कारण हो सकता है। अश्वगंधा में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट कैंसर को रोकने में भी मदद कर सकता है, हालांकि एक डॉक्टर के परामर्श के बिना कभी भी सप्लीमेंट नही लिया जाना चाहिए।
Click to Buy Now
अश्वगंधा के एंटीऑक्सीडेंट गुण जाहिरा तौर पर एलडीएल ऑक्सीकरण में कमी लाते है, जिससे हृदय रोग के विकास के जोखिम में कमी आती है यदि नियमित रूप से यह लिया जाता है। अश्वगंधा के एक अन्य लाभ मधुमेह रोगियों के लिए मोतियाबिंद को रोकना है। मोतियाबिंद दुनिया में अंधापन का एक प्रमुख कारण हैं, और भी मधुमेह रोगियों के लिए एक विकलांगता के प्रमुख स्रोत हैं। जिनसेंग और जिनसेंग की तरह अश्वगंधा जड़ी बूटी ओस्सिडेटिव प्रक्रियाओं को रोकती है जोकि मोतियाबिंद को विकसित करने का कारण हो सकता है। अश्वगंधा में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट कैंसर को रोकने में भी मदद कर सकता है, हालांकि एक डॉक्टर के परामर्श के बिना कभी भी सप्लीमेंट नही लिया जाना चाहिए।

Click to Buy Now

अश्वगंधा के एंटीऑक्सीडेंट गुण जाहिरा तौर पर एलडीएल ऑक्सीकरण में कमी लाते है, जिससे हृदय रोग के विकास के जोखिम में कमी आती है यदि नियमित रूप से यह लिया जाता है। अश्वगंधा के एक अन्य लाभ मधुमेह रोगियों के लिए मोतियाबिंद को रोकना है। मोतियाबिंद दुनिया में अंधापन का एक प्रमुख कारण हैं, और भी मधुमेह रोगियों के लिए एक विकलांगता के प्रमुख स्रोत हैं। जिनसेंग और जिनसेंग की तरह अश्वगंधा जड़ी बूटी ओस्सिडेटिव प्रक्रियाओं को रोकती है जोकि मोतियाबिंद को विकसित करने का कारण हो सकता है। अश्वगंधा में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट कैंसर को रोकने में भी मदद कर सकता है, हालांकि एक डॉक्टर के परामर्श के बिना कभी भी सप्लीमेंट नही लिया जाना चाहिए।

Copied


April 25, 2016
Comments